कोरोना वायरस पर भाषण speech on corona viruse in Hindi

कोरोना वायरस पर भाषण speech on corona viruse(covid-19) in Hindi

दोस्तों इस पोस्ट मेंं, मैं आपको अभी हाल ही में आए कोरोना वायरस/corona viruse par पर भाषण देने योग्य एक लेख बताऊंगा। जिसको ध्यान में रखते हुए आप अपने स्कूल कॉलेज में भाषण दे सकते हैं।
शूरुआत में आप अपने अनुसार विद्यालय के प्राचार्य, शिक्षकों को संबोधित करने के पश्चात आप यह कोरोना वायरस पर भाषण covid 19 पर भाषण सुना सकते हैं। 


कोरोना वायरस पर भाषण corona viruse par bhashan Hindi me

कोरोना वायरस! आज से कुछ समय पहले यह स्थिति थी कि हर व्यक्ति बड़ा बुड्ढा वह बच्चे बच्चे के मुंह पर कोरोना वायरस का नाम था।

सन 2019 के दिसंबर में चीन के वुहान शहर से दुनिया के अस्तित्व में आया कोरोना वाइरस इतना खतरनाक था की इसने देखते ही देखते कुछ ही समय में पूरी दुनिया को हिला दिया। इसके फैलने की क्षमता इतनी अधिक थी कि देखते ही देखते इसने वुहान को औंधे मुंह गिरा दिया और कुछ ही समय में आवागमन के कारण चीन से बाहर निकल गया। यह इतना खतरनाक था की महज तीन चार महीनों के भीतर WHO (विश्व स्वास्थ्य संगठन) ने इसे महामारी घोषित कर दिया।

मार्च 2021 में पहली बार भारत में पहला कैस सामने आया तब तक कई देशों पर यह वायरस अपने पैर पसार चुका था। लगभग 1 महीने के अंदर इस ने भारत को भी पूरी तरह जकड़ लिया था। 

संक्रमित व्यक्तियों के हाथ लगाने अथवा उसके संपर्क में आने से फैलने के कारण अप्रैल-मई तक यह वायरस पूरी दुनिया में फैल चुका था। 

विभिन्न देशों की सरकारों ने इससे बचने के लिए कई प्रकार के कदम उठाए और सैकड़ों कड़े नियम लागू किये।

इसको फैलने से रोकने के लिए सबसे कारगर तरीका साबित हुआ वह था लॉकडाउन

लॉकडाउन का नाम सुनते ही हर व्यक्ति के दिलों दिमाग में पूरा करोनाकॉल तरोताजा हो जाता है।

पढे - लॉकडाउन से लाभ या हानि

हर देश ने अपने अपने अनुसार देश में लॉकडाउन।  लगवाया कई नियम लागू किए। इस दौरान स्कूल, कॉलेज, व्यवसाय, सरकारी कामकाज, उद्योग पूरी तरह से बंद कर दिए गए। पूरी दुनिया की जनता अब घरों में कैद हो चुकी थी ।

इस दौरान पूरी दुनिया लगभग थम सी गई थी। सड़कों पर जंगली जानवर आ चुके थे। घूमने फिरने की जगह मंदिर, मस्जिद, पार्क में जंगली जानवर लुप्त उठा रहे थे।

देश की इकोनॉमी गिर चुकी थी। अथवा पूरी दुनिया अब कई साल पीछे भी जा चुकी थी। प्रतिदिन लाखों लोग नए संक्रमित मिलते जा रहे थे और हजारों को यह वायरस मौत के घाट उतार रहा था।

इस वायरस के मुख्य लक्षण सर्दी, सूखी खांसी, गले में कफ जमना, सांस लेने में परेशानी आना व तेज बुखार आना जैसे थे

अमेरिका इटली जैसे विकसित देशों तक को इस वायरस ने औंधे मुंह गिरा दिया था। यह वायरस इतना खतरनाक था कि 1 साल तक वैज्ञानिकों द्वारा ना कोई वैक्सीन तैयार की जा सकी और न कोई इसकी दवाई।

इस वायरस से लोगों को बचाने में डॉक्टर व हमारे जवानों की जो भूमिका रही उसे कभी भुलाया नहीं जा सकता है। दिन-रात लोगों की सेवा करके इस वायरस को फैलने से रोकने के लिए सैकड़ों डॉक्टर व जवानों ने अपनी जान गवा दी। 

शिक्षा जिसे किसी देश, समाज अथवा व्यक्ति के विकास के लिए आधारभूत माना गया है, लगभग 2 सालों तक बंद रही। सभी स्कूलों को बंद कर दिया गया। 

इस दौरान ऑनलाइन कक्षाओं की तरफ रुख किया गया लेकिन, कई परेशानियों के कारण आधे से ज्यादा विद्यार्थी ऑनलाइन शिक्षा लेने से वंचित रहे।

पढ़े👉 ऑनलाइन शिक्षा और ऑनलाइन कक्षाओं में आने वाली समस्याएं

पहली बार दुनिया भर में सभी बस, ट्रेन, फ्लाइट्स को रोक दिया गया। सभी देश ने अपने देश मैं दूसरे देश के लोगों का आने पर प्रतिबंध लगा दिया। 

पर्यटन स्थल जहां कभी लाखों की भीड़ हुआ करती थी वह भी कोरोना काल में सुनसान पड़े थे। इस दौरान कोई व्यक्ति अपने व्यवसाय से हाथ धो बैठा तो कोई अपने नौकरी से।

कई ऐसे बदलाव वह कारणों से दुनिया भर के लोग समझ चुके थे कि आखिर हमने अपनी प्रकृति को कितना नुकसान पहुंचाया था। यहां सब अपना अधिकार जमाना चाहते थे। जिसका नतीजा अब हमें भुगतने को मिल रहा है।

कभी लोगों को अपनों से मिलने के लिए, अपनों के पास समय बिताने का भी वक्त नहीं था लेकिन इस वायरस ने सब कुछ बदल दिया। अब लोग अपने घर पर थे। अपनों के पास थे। और कई परिवार खुश भी थे।

कोरोना वायरस लोगों के लिए एक सबक था। इसे हम प्रकृति की मार भी कह सकते हैं। लॉकडाउन के कारण पर्यावरण प्रदूषण भी कम होने लगा था।

कई सरकारी आंकड़े के अनुसार तो कई गंधे शहर अब काफ़ी स्वच्छ दिखने लगे थे। कोरोना वायरस सदी की एक इतनी बड़ी घटना थी कि इसे कभी भुलाया नहीं जा सकता है। 

दो शब्द इस कोरोना वायरस के भाषण पर

यह भाषण हमने कोरोना वायरस को भूतकाल के रूप में लिखा है। अभी भी कोरोना वायरस थमा नहीं है। इसका कहर अभी भी जारी है लेकिन भाषण हमें इस तरह से लिखा है कि कोरोना वायरस कुछ समय पहले था और अब स्थिति सही है।

दोस्तों, कैसा लगा आपको कोरोना वायरस पर भाषण corona viruse par bhashan। 

हमें विश्वास है कि इस भाषण को पढ़ने के बाद आपको अपना पूरा करोनाकॉल याद आ गया होगा। और जब भी आप इस भाषण को लोगों के सामने व्यक्त करेंगे उन्हें बीते लम्हे याद आ जाएंगे।😅😅


यह भी पढ़ें

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ